Ravivar Vrat || रविवार व्रत का महत्‍त्‍व || Ravivar Vrat ka Mahattva|| कैसे करें पूजा || Ravivar Puja Vrat Katha|| Surya Gayatri || lSurya yantra || सूर्यदेव की आरती एवं व्रतकथा का फल
Arti, Vrat Katha and Mantra
by Aishi
2y ago
 Ravivar Vrat || रविवार व्रत का महत्‍त्‍व || Ravivar Vrat ka Mahattva|| कैसे करें पूजा || Ravivar Puja Vrat Katha|| Surya Gayatri || lSurya yantra || सूर्यदेव की आरती एवं व्रतकथा का फल  रविवार के दिन सूर्य देव की पूजा का विधान है। यह व्रत करने से जीवन में सुख-समृद्धि, धन-संपत्ति और शत्रुओं से सुरक्षा मिलती है। सूर्यदेव का को प्रसन्‍न करने के लिए रविवार का व्रत करने व कथा सुनने से भक्‍तों की सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं साथ ही मान-सम्मान, धन-यश तथा उत्तम स्वास्थ्य मिलता है। रविवार व्रत की पूजन विधि :-  यह व्रत व्रत एक वर्ष या 30 रविवारों तक अथवा 12 ..read more
Visit website
Rudreshwar Temple Rudri Dhamtari
Arti, Vrat Katha and Mantra
by Aishi
2y ago
Rudreshwar Temple, Dhamtari Overview Rudreshwar Temple is a remarkable Hindu temple that lies in Dhamtari district of Chhattisgarh. It is an ancient shrine of Lord Shiva that was built during the reign of the King Rudra Dev Chandravanshi, a ruler of the Chandravanshi dynasty. This temple is widely visited by the locals and tourists alike. It Is Known For:- 1)    Rudreshwar Temple was constructed during the reign of the Chandravanshi dynasty. A king known by the name of Rudra Dev founded this temple in 1915. 2)    It enshrines Lord Shiva in the sanctum in the form of a Sh ..read more
Visit website
मासिक दुर्गा अष्टमी
Arti, Vrat Katha and Mantra
by Aishi
2y ago
मासिक दुर्गा अष्टमी  :   महा-अष्टमी , नवरात्रि में पड़ने वाली अष्टमी तिथि को कहा जाता है| महा-अष्टमीजो वर्ष में दो बार आती है चैत्र और अश्विन  महीने में, लेकिन इसके अलावा प्रत्येक माह में शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि को भी मासिक दुर्गाष्टमी का व्रत किया जाता है। हिंदू धर्म में मासिक दुर्गाष्टमी का भी बहुत महत्व माना गया है। महाष्टमी के अलावा मासिक दुर्गाष्टमी का दिन मां आदि शक्ति को प्रसन्न करने के लिए बहुत महत्वपूर्ण होता है। इस दिन भक्त मां आदि शक्ति की आराधना करते  ..read more
Visit website
Know about Kumbh Mela
Arti, Vrat Katha and Mantra
by Aishi
3y ago
 What is Kumbh Mela :  Kumbh Mela is a major pilgrimage of Hindus. It is the largest religious gathering of Hindus held four times over the course of 12 years at 4 different locations that are situated on the bank of the sacred rivers. Prayagraj (at the confluence of the Ganga, Yamuna and Saraswati Rivers), Ujjain (River Shipra), Haridwar (River Ganga) and Nasik (River Godavari) are the four destinations. Why is kumbh Mela Celebrated :  It is believed, the nectar from the pot fell at four locations - Prayagraj, Ujjain, Haridwar, and Nasik during an epic battle between ..read more
Visit website
Sri Vishnu Chalisa श्री विष्णु चालीसा
Arti, Vrat Katha and Mantra
by Aishi
3y ago
Sri Vishnu Chalisa ( श्री विष्णु  चालीसा )  ..read more
Visit website
जाने मोर पंख क्यों रहता है श्री कृष्ण के शीश पे
Arti, Vrat Katha and Mantra
by Aishi
3y ago
जाने मोर पंख क्यों रहता है श्री कृष्ण के शीश पे    श्री कृष्ण के लीला काल का समय था, गोकुल में एक मोर रहता था, वह मोर बहुत चतुर था और श्री कृष्ण का भक्त था, वह श्री कृष्ण की कृपा पाना चाहता था। इसके लिए उस मोर ने एक युक्ति सोची वह श्री कृष्ण के द्वार पर जा पहुंचा, जब भी श्री कृष्ण द्वार से अंदर-बाहर आते-जाते तो उनके द्वार पर बैठा वह मोर एक भजन गाता। मेरा कोई ना सहारा बिना तेरे, गोपाल सांवरिया मेरे, माँ बाप सांवरिया मेरे इस प्रकार प्रतिदिन वह यही गुनगुनाता रहता एक दिन हो गया, 2 दिन हो गये इसी तरह 1 ..read more
Visit website
श्री शनि देव चालीसा Shri shanidev chalisa
Arti, Vrat Katha and Mantra
by Aishi
3y ago
श्री शनि देव चालीसा | श्री शनि देव चालीसा | श्री शनि देव चालीसा  Shri shanidev chalisa  Shri shanidev chalisa  Shri shanidev chalisa दोहा जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल करण कृपाल। दीनन के दुख दूर करि, कीजै नाथ निहाल ।।  जय जय श्री शनिदेव प्रभु, सुनहु विनय महाराज।  करहु कृपा हे रवि तनय, राखहु जन की लाज।। जयति जयति शनिदेव दयाला।  करत सदा भक्तन प्रतिपाला।।  चारि भुजा तनु श्याम विराजै।  माथे रतन मुकुट छबि छाजै।।  परम विशाल मनोहर भाला।  टेढ़ी दृष्टि भृकुटि विकराला।।  ..read more
Visit website
अनंत चतुर्दशी व्रत कथा विधि महत्व
Arti, Vrat Katha and Mantra
by Aishi
3y ago
अनंत चतुर्दशी व्रत कथा विधि महत्व भाद्रपद की शुक्ल चतुर्दशी को अनंत चतुर्दशी के नाम से भी जाना जाता है और इस दिन अनंत के रूप में श्री हरि विष्‍णु की पूजा होती है। इस दिन व्रत करने वाले महिलायें और पुरुष अपने हाथ में एक धागा जिसे अंनत राखी कहते है, बांधते है। इस धागे में 14 गांठ होती है जो 14 ..read more
Visit website
Krishna Wallpaper for Krishna Lover
Arti, Vrat Katha and Mantra
by Aishi
3y ago
O my dear Krishna, You are the friend of the distressed, the ocean of mercy, and the Lord of creation. You are the master of the cowherdsmen and the lover of the gopis, especially Radharani. I offer my respectful obeisances unto You. In the Age of Kali, intelligent persons perform congregational chanting to worship the incarnation of Godhead who constantly sings the names of Krishna. Although His complexion is not blackish, He is Krishna Himself. He is accompanied by His associates, servants, weapons and confidential companions O my Lord, when will my eyes be decorated with tears of love ..read more
Visit website
स्वस्थ सम्बन्धित प्राचीन दोहावली
Arti, Vrat Katha and Mantra
by Aishi
4y ago
स्वास्थ्य  सम्बन्धित प्राचीन दोहावली  ऊर्जा मिलती है बहुत , पियें गुनगुना नीर |  कब्ज खतम हो पेट की , मिट जाएँ हर पीर ||  प्रातः काल पानी पियें , घूंट -घूंट  कर आप |  बस दो तीन गिलास है , हर्र औषधि का बाप ||  ठंडा पानी पियों मत , करता क्रूर प्रहार |  करे हाजमे का सदा , ये तो बंटादार  ||  पानी में गुड़  डालिये , बिट जाये जब रात |  सुबह छानकर पीजिए , अच्छे हों हालात ||  धनिया की पत्ती मसल , बून्द नैन में डार |  दुखती अँखियाँ ठीक हों , पल लागे दो चार ||  ..read more
Visit website

Follow Arti, Vrat Katha and Mantra on FeedSpot

Continue with Google
Continue with Apple
OR